cork yoga mat
Hindi

Review : कॉर्क योगा मैट

अगर आपने कॉर्क योगा मैट के बारे में नहीं सुना है तो हम आपको बता दें और एक ऐसा इको फ्रेंडली पदार्थ है. जो चटाई बनाने के काम में आता है. इस चटाई पर अगर आप योगा करते हैं तो आपके पैरों को स्थायित्व प्रदान होता है.  यह आपके शरीर को बैक्टीरिया मुक्त रखेगा. इसलिए कॉर्क योगा मैट काफी प्रचलन में है.

आज हम आपके लिए कॉर्क योगा मैट रिव्यू लेकर आए हैं. अगर आप अपने लिए योगा मैट खरीदना चाह रहे हैं, तो हम आपको बताएंगे, कि एक कॉर्क योगा मैट आपको क्यों खरीदना चाहिए.

कॉर्क योगा मैट के लाभ :

इको फ्रेंडली : कॉर्क इको फ्रेंडली पदार्थ है. यह कॉर्क ओक पेड़ की छाल से निकाला जाता है. इसे निकाल लेने के बाद छाल दोबारा से आ जाती है. इस प्रकार से यह एक कभी ना खत्म होने वाला सोर्स बन जाता है. कॉर्क ओक पेड़ की एक खास बात और यह होती है कि यह अत्यधिक मात्रा में कार्बन डाइऑक्साइड का अवशोषण भी करता है, और यह गुण इस पेड़ के अंदर और छाल में भी होता है.

इसलिए आपकी त्वचा पर सिंथेटिक वस्तुओं से जो एलर्जी हो जाती है, उस प्रकार की एलर्जी आपको कॉर्क योगा मैट से नहीं होगी.

मजबूत : यह काफी मजबूत और टिकाऊ सामग्री होती है. इसके द्वारा बनाई गई मैट काफी लंबे समय तक आपका साथ देगी.

जीवाणुरोधी: कॉर्क के अंदर एंटीबैक्टीरियल गुण होते हैं इस वजह से आपके शरीर पर पसीना आने पर और जब यह मटेरियल के संपर्क में आता है तो आपको किसी भी प्रकार का इन्फेक्शन जल्दी से  नहीं होएगा.

फिसलन रोधी : यह कॉर्क का एक बाय डिफॉल्ट गुण होता है. यह बिल्कुल भी फिसलने वाला नहीं होता है. जिसकी वजह से आपको योगा करते समय स्टेबिलिटी मिलती है. और आप कठिन से कठिन योगा भी बड़ी आसानी के साथ कर लेते हैं.

आकार:

 कॉर्क योग मैट आपको स्टैंडर्ड लंबाई चौड़ाई के अनुसार मार्केट में अवेलेबल हो जाता है. इसकी मानक लंबाई चौड़ाई 24 x 68 इंच की है. लेकिन यह आपको आपकी आवश्यकतानुसार 72,74 और 84 इंच की लंबाई में भी उपलब्ध हो जाता है. और अगर आप चाहे तो यह 30 इंच चौड़ाई में भी आपको प्राप्त होगा.

कार्क योगा मैट की मोटाई कितनी होनी चाहिए :

अगर आपको अपनी योगा मैट के साथ ट्रैवल करना है, तब आपको थोड़ा पतली योगा मैट की आवश्यकता होती है. ताकि उसे इधर से उधर ले जाने में किसी भी प्रकार की समस्या नहीं हो.  ऐसे में आप कार्क योगा मैट की डेढ़ mm मोटी योगा मैट ले सकते हैं.

अगर आपको कठिन योगा करने हैं तो योगा मैट की मोटाई थोड़ा अधिक हो यह आवश्यक है ताकि आपको उचित स्थायित्व प्रदान हो.

अगर आपकी योगा में किसी फर्श पर रखकर योगा करना है, तो मोटाई अधिक होना जरूरी है.

अगर आप योगा मैट को घास के मैदान में प्रयोग कर रहे हैं. तब थोड़ा सा पतली योगा मैट  आपके लिए ठीक रहेगी.

अगर आप बड़ी उम्र के हैं आपके घुटने आदि में दर्द की समस्या है या आप किसी ऑपरेशन के कारण या एक्सीडेंट के कारण हाथ पैर में दर्द की समस्या के साथ जूझ रहे हैं, तब आपको थोड़ा मोटी योगा मैट की आवश्यकता होती है.

अन्य :

अगर आप योगा करते समय पसीने की समस्या से ग्रसित हो गए हैं. तब  यह योगा मैट पसीने को भी सोखने में सक्षम होती है.

गीले कपड़े से पोछ और कॉर्क योगा मैट को साफ कर सकते हैं. आसानी से साफ हो जाती है. यह पानी से खराब नहीं होती है. अगर इसे ज्यादा समय आप पानी में रहने देंगे तब इसमें कमी आने का डर रहता है क्योंकि यह एक नेचुरल सामग्री से तैयार योगा मैट है.

यह मजबूत है, टिकाऊ है, ऊष्मा रोधी है, और नेचुरल मटेरियल से बनी हुई है इसलिए यह एक अच्छा विकल्प होती है.

अगर आप ऑनलाइन योगा में खरीदना चाह रहे हैं या योगा मैट का रिव्यू देखना चाह रहे हैं तो हम आपको कुछ बेस्ट क्वालिटी योगा का लिंक दे रहे हैं. जिसमें हर प्रकार की योगा आपको मिल जाएगी. जहां आप अपनी सुविधा अनुसार योगा में खरीद सकते हैं.

Related posts

Leave a Comment