Review : रबड़ योगा मैट | Rubber Yoga Mat Review
Hindi

Review : रबड़ योगा मैट | Rubber Yoga Mat Review 2021

नमस्कार दोस्तों आज हम आपके सामने रबड़ योगा मैट रिव्यू (Rubber Yoga Mat Review) लेकर आए हैं. उसके अंदर हम आपको योगा मैट के संबंध में काफी कुछ बताएंगे. जिसे जानकर, समझ कर आप अपने अनुसार अपनी, आवश्यकता के अनुसार योगा मैट सेलेक्ट कर पाएंगे.

हम आपसे बात करेंगे

रबड़ क्या होता है (What is rubber)
रबड़ की चटाई के क्या फायदे हैं (Benefits of rubber Yoga mat)
कितनी मोटी योग चटाई ले (How thick is the Yoga mat)
किन स्थिति में रबड़ योगा मैट नहीं ले (Demerit Rabbar Yoga Mat)
रबड़ योगा मैट कैसे खरीदें (How to buy rubber yoga mats)

रबड़ क्या होता है

आजकल रबड़ के पेड़ की खेती हो रही है. रबड़ के पेड़ से लेक्टस नाम का पदार्थ निकलता है. जिससे रबर बनाई जाती है.

दोस्तों रबड़ एक प्राकृतिक पदार्थ है. यह पेड़ की छाल से प्राप्त होता है. यह एक शुद्ध पदार्थ है, जिससे हमारे शरीर को किसी भी प्रकार का नुकसान नहीं होता है. यह वाटरप्रूफ मेटेरियल भी होता है.

रबड़ की चटाई के क्या फायदे हैं

आजकल काफी सारे योगा मैट सिंथेटिक पदार्थों से बनाए जाते हैं, जो कि विभिन्न प्रकार के केमिकल के द्वारा तैयार किए जाते हैं. इस प्रकार के योगा में हमारी त्वचा के लिए काफी हानिकारक हो सकते हैं. लेकिन रबड़ एक प्राकृतिक पदार्थ है. इस कारण से यह हमारे शरीर को ना के बराबर नुकसान पहुंचाता है.

रबड़ से बनी चटाई सबसे ज्यादा रिकमेंड की जाती है, क्योंकि यह प्रकृति के बहुत ज्यादा करीब है.
इको फ्रेंडली : रबर एक इको फ्रेंडली पदार्थ होता है इससे बनी योगा मैट भी इको पेंड्री इको फ्रेंडली योगा मैट कहलाती है जैसा कि हमने आपको बताया था कि यह है प्राकृतिक पदार्थ से बनी है इसके अपने गुण होते हैं अपने फायदे होते हैं.

फिसलन रोधी:  रबड़ एक ऐसा प्राकृतिक पदार्थ है जिसे दोनों प्रकार से तैयार किया जा सकता है इससे फिसलने वाली वस्तुओं का भी निर्माण हो सकता है और साथ ही इससे फिसलन रोधी वस्तुएं भी बनाई जाती है. बस इससे प्रोसेस करने के तरीके से यह सब होता है. हम जानते हैं कि योगा मैट में स्थायित्व बहुत ज्यादा इंपॉर्टेंट होता है. यह बिल्कुल भी फिसलन भरा नहीं होना चाहिए. वास्तव में रबड़ एक अपनी तरफ किसी भी वस्तु को खींचने वाला पदार्थ होता है जिससे एक अच्छा स्थायित्व प्रदान होता है.
मार्केट में आपने बहुत सारी ऐसी जूते चप्पल देखे होंगे जो प्लास्टिक के या रबर के नजर आते हैं, और वह चिकनी सतह या पानी के ऊपर एकदम से फिसलते हैं. असल में वह सिंथेटिक पदार्थ होता है, अगर रबर को उसके साथ मिलाकर प्रोसैस्ड किया जाएगा तो फिसलने वाली वस्तुएं बनाई जा सकती है. योगा मैट बिल्कुल भी फिसलन भरी नहीं होती है. यह आपको एक अच्छा स्थायित्व प्रदान करती है.

बैक्टीरिया रोधी : रबड़ एक बैक्टीरिया रोधी पदार्थ होता है. अगर आपको काफी हद तक पसीना आता है, तो इसके कारण आपकी त्वचा में किसी भी प्रकार का इन्फेक्शन नहीं होगा.

रबड़ योगा मैट उम्र :  यह काफी लंबे समय तक चलने वाली योगा मैट है यह सालों साल आपका साथ देगी.

फ्लैक्सिबिलिटी : रबर एक बहुत ही फ्लेक्सिबल मेटेरियल होता है. जिन व्यक्ति को घुटनों में दर्द, हाथ पैरों में दर्द की समस्या होती है. वह लोग भी काफी आसानी के साथ रबड़ योगा मैट के ऊपर योगा कर लेते हैं.

कठिन योगा के लिए उत्तम : रबड़ एक फ्लैक्सिबल पदार्थ है जिसके कारण यह शरीर के ऊपर काफी प्रेशर डालता है. अगर आप अपने शरीर के किसी अंग विशेष पर अधिक प्रेशर डाल कर कोई कठिन योगा करना चाह रहे हैं, तो इसमें रबड़ योगा में रबड़ योगा मैट काफी सहायक होती है.

यह मजबूत है, टिकाऊ है, ऊष्मा रोधी है, और नेचुरल मटेरियल से बनी हुई है. इसलिए यह एक अच्छा विकल्प होती है. यह सर्दियों में गर्मी का एहसास देती है, और गर्मियों में ठंड का एहसास देती है.

यह बड़ी आसानी से साफ हो जाती है, और यह पानी में खराब नहीं होती है.

कितनी मोटी योग चटाई ले

योगा मैट की मोटाई आपको 1 एमएम से लेकर 6 एमएम तक आपकी अपनी सुविधा के अनुसार प्राप्त हो जाती है.

अगर आपको योगा मैट लेकर कहीं बाहर जाना है तो आप पतली योगा मैट ले सकते हैं.
अगर आपको किसी हार्ड सरफेस पर जैसे कि सीमेंटेड सरफेस पर योगा करने हैं तो आपको अपेक्षाकृत थोड़ी सी मोटी योगा मैट की आवश्यकता होती है. ताकि जमीन पर टिकने वाले शरीर के हिस्सों पर प्रेशर नहीं आए.

अगर आपको नरम सरफेस पर योगा करना है जैसे कि मिट्टी या रेत जैसे कि समुंदर के किनारे, वहां पर आप पतली योगा मैट के सहायता से भी योगा कर सकते हैं.

जिनी योगा प्रेमियों को हाथ पैर में या घुटने में दर्द की समस्या है या किसी एक्सीडेंट के कारण दर्द की समस्या है, तो उनके लिए अपेक्षाकृत थोड़ी सी मोटी योगा मैट की आवश्यकता होती है. ताकि वह आराम से योगा कर सके.

रबड़ योगा मैट के डिसएडवांटेज

ऐसा हो सकता है, कि कुछ विशेष परिस्थिति में कुछ विशेष लोगों को रबड़ से एलर्जी होती है. जैसा कि हमने बताया था, कि लेक्टस से रबड़ बनता है तो हो सकता है, कि कुछ लोगों को लेक्टस से एलर्जी हो सकती है. तभी यह त्वचा में इंफेक्शन पैदा कर सकता है.

रबड़ की योगा में अपेक्षाकृत थोड़ी सी भारी होती हैं. जिस कारण से उन्हें एक स्थान से दूसरे स्थान ले जाने में काफी मेहनत करनी पड़ती है, या कह सकते हैं, दिक्कत का सामना करना पड़ता है.

ओरिजिनल रबर में हल्की सी गंध आती है जिसके कारण आपको परेशानी पुश हो सकती है वैसे हर व्यक्ति को यह गंध खराब नहीं लगती.

ओरिजिनल रबर से बनी योगा में अपेक्षाकृत थोड़ी सी महंगी होती है.

हमने आपके लिए कुछ बेस्ट क्वालिटी के रबड़ योगा मैट ढूंढ के रखे हुए हैं.  आप इन रबड़ योगा मैट की विशेषताएं देखिए. उनके बारे में कस्टमर्स के रिव्यु जानिए. उसकी कीमत जानिए.

Related posts

Leave a Comment